Wednesday, February 8, 2023
HomeTrendगणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में 2023 | 26 January Speech in...

गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में 2023 | 26 January Speech in Hindi 2023

गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में 2023 : गणतंत्र दिवस यह वह दिन है जिस दिन भारत देश को गणतांत्रिक देश के रूप में मान्यता मिली थी 26 January 1950 के दिन संविधान लागू हुआ था | गणतंत्र दिवस भारत के नागरिक का गर्व का त्यौहार है जिसे देश का हर नागरिक बहुत उत्साह से मनाता है और हर स्कूल में ध्वजरोहण होता है और आज ही के दिन दिल्ली के राजपथ पर ” परेड ” होती है जिसे देखने का अलग ही आनंद आता है सच मनो उसे देखकर आपके अंदर एक अलग सी ऊर्जा आ जाती है | खास कर स्कूल के बच्चो के लिए बड़े आनंद का दिन है इस दिन एक अलग ही उत्साह दिखेगा आपको उस दिन स्कूल में अलग अलग कार्यक्रम होते है और हिम्मत वाले भाषण दिए जाते है ताकि लोगो में आत्मविश्वास बढे | अगर आपने भी कही भाग लिया है और आपको गणतंत्र दिवस पर भाषण देना है तो आप लोगो के लिए हमने गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में तैयार किया है उस भाषण के माध्यम से आप ज्यादा बोले आसानी से अपनी बात समझा सकते है और लोगो में नयी ऊर्जा की लहार दौड़ा सकते है |

गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में 2023 स्कूल के लिए

Happy Republic Day Speech in Hindi 2023

गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में लिखा हुआ कक्षा 5 से 10 तक के लिए

26 जनवरी पर शानदार भाषण 2023

अनेकता में एकता ही मेरी शान है , इसीलिए मेरा भारत महान है

आदरणीय मुख्य अतिथि महोदय; प्रधानाचार्यजी ; शिक्षकगण – और मेरे प्यारे देशवासियों ,

आप सभी को मेरा नमस्कार , हम सभी जानते हैं कि ;

आज 26 जनवरी हमारे भारत देश का गणतंत्र दिवस है ।

इस महान अवसर पर आप सभी को गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाये |

गणतंत्र दिवस हमारे देश के एक महत्वपूर्ण राष्ट्रीय पर्व है।

यह पर्व हर भारतवासी के लिए सम्मान और गौरव का पर्व है।


हमारा भारत देश 15 अगस्त 1947 को आज़ाद हुआ है।
परन्तु आज़ादी के बाद हमारे देश में किसी भी प्रकार का कानून या नियम देश के लोगो के लिए नहीं बना था।


तब देश क तत्कालीन राष्ट्रपति और संविधान सभा के अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद थे।

उन्होंने संविधान निर्माड का कार्य डॉ भीमराव अम्बेडकरजी को दिया।

डॉ अम्बेडकरजी के नेतृत्व में स्तापित समिति द्वारा २ साल ११ महीने और १८ दिन अथक परिश्रम करके भारत के संविधान का मसौदा तैयार किया गया।
यह संविधान 26 जनुअरी 1950 को पुरे भारत देश में लागू कर दिया गया।

भारत देश एक लोकतान्त्रिक और पूर्ण गणतंत्र राष्ट्र घोसित किया गया।

हमारे भारत देश का संविधान पुरे विश्व में सबसे बड़ा लिखित संविधान है।
यह संविधान अपने आप में पूर्ण है।

इस विशाल और महान संविधान ने हमें हमारे मौलिक अधिकार
और हक़ के लिए लड़ने की ताकत दी है।

इसकी रक्षा हम सभी भारतवासी का परम कर्तव्य है।

आइये आज हम भारतवासी अपने देश क सभी वीरो को नमन करते है , जिनके कारन आज हम स्वतंत्र और गणतंत्र देश म ख़ुशी से रह रहे है।

दे सलामी इस तिरंगे को,
जिससे तेरी शान है ,
सर हमेशा ऊंचा रखना इसका ,
जब तक दिन में जान है।

जय हिन्द , जय भारत।

Read More : Republic Day Speech in English 2023

गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में 2023 PDF

गणतंत्र दिवस पर निबंध 500 शब्दों में

गणतंत्र दिवस भारत के संविधान के अनुसार स्वतंत्र देश का पर्व है। यह दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है, जो कि संविधान की स्थापना की तारीख है। संविधान को स्वतंत्रता के बाद के सबसे महत्वपूर्ण कानून के रूप में समझा जाता है, क्योंकि यह एक नियमित संस्था को प्रतिष्ठा देता है।

इस दिवस पर, राष्ट्रीय धूम और उत्साह से समारोह किये जाते हैं, राष्ट्रीय धूमधाम से शहरों और ग्रामों में त्यौहार मनाये जाते हैं, और संस्थानों पर संविधान की शिक्षा दी जाती है।

यह संविधान समाज को सुख, समृद्धि, संस्कृति और समानता के संकल्प को प्रकट करता है। इससे समान को सम्मान और संस्कृति को स्वीकार करने की स्थान मिलती है।

संविधान के अनुसार, सभी नागरिक स्वतंत्र, समान और समर्पित होने के लिए अधिकार और सुविधाएं प्राप्त करते हैं। यह संविधान समाज को समृद्धि, संस्कृति और समानता के संकल्प को प्रकट करता है। संविधान के अनुसार, सभी नागरिकों को न्याय और सम्मान की सुविधा प्राप्त होनी चाहिए।

संविधान

दिवस पर, न्याय को स्थापित करने, समानता को बढ़ावा देने, समृद्धि को प्रेरित करने, समानता को सुधारने के लिए संस्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। स्कूलों, कॉलेजों और संस्थानों में संविधान को समझाने के लिए शिक्षकों के साथ समारोह और कार्यशाला आयोजित की जाती है।

संविधान दिवस पर सरकार द्वारा समाज के समक्ष संविधान के अनुकूल काम को बढ़ावा देने के लिए प्रोग्राम आयोजित किए जाते हैं।

संविधान को समझना और समानता को बढ़ावा देना हमारे देश के भविष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

संविधान दिवस पर हम में से हर एक नागरिक को संविधान को समझने की जरूरत है। संविधान की शिक्षा से हम समझते हैं कि हम कैसे समझते हैं, कैसे काम करते हैं, और कैसे समाज को सुख और समृद्धि के संकल्प को प्रकट करते हैं।

संविधान दिवस पर हम संविधान के अनुसार समाज के सुख और समृद्धि के लिए काम करने का संकल्प ले सकते हैं। संविधान के अनुसार समाज को सम्मान और समानता की सुविधा प्राप्त होनी चाहिए, समाज को समझने की जरूरत है और समाज को सम्मान और समानता की सुविधा प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए। संविधान दिवस पर हम समझते हैं कि संविधान के अनुसार समाज को सुख और समृद्धि के संकल्प को प्रकट करने की कोशिश करनी चाहिए।

गणतंत्र दिवस पर भाषण के बाद नारे

“सत्यमेव जयते” (Satyameva Jayate) – “Truth alone triumphs”

“वन्दे मातरम्” (Vande Mataram) – “I bow to thee, Mother”

“जय हिंद” (Jai Hind) – “Victory to India”

“संवत्सर नव नया साल हार्दिक शुभकामनाएं” (Sanvatsar Nav Nayaa Saal Haardik Shubhkaamnaaye) – “Happy New Year”

“स्वतंत्रता की शान हमारी, स्वतंत्रता की सौभाग्य हमारी” (Svaatantrata Ki Shaan Hamari, Svaatantrata Ki Saubhagya Hamari) – “Our pride is independence, our fortune is independence”

“सब कुछ हिंदुस्तान के लिए” (Sab Kuchh Hindustaan Ke Liye) – “Everything for India”

“संस्कृति, समाज, स्वास्थ्य” (Sanskriti, Samaj, Swasthya) – “Culture, Society, Health”

“सबका साथ, सबका विकास” (Sabka Saath, Sabka Vikas) – “Together with all, Development for all”

“समर्पित हम अपने देश को” (Samarpit Ham Apne Desh Ko) – “We dedicate ourselves to our country”

“स्वतंत्र भारत महान” (Svaatantra Bharat Mahaan) – “Great Independent India”

“याद रखेंगे वीरो तुमको हरदम, यह बलिदान तुम्हारा है, हमको तो है जान से प्यारा यह गणतंत्र हमारा है। “

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है जोर कितना बाजू-ए-कातिल में है।

एक राष्ट्र, एक दृष्टिकोण, एक पहचान “कोई राष्ट्र बिल्कुल सही नहीं है, इसे पूर्ण करने की जरूरत है।” मेरी पहचान भारत

26 जनवरी के दिन हुआ था नवभारत का आरंभ, पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त करके भारत ने तोड़ा था अंग्रेजी हुकूमत का दंभ।

यह है बलिदानों की धरती, हर कोई करता इसे सलाम। बहती है यहां प्रेम की गंगा, हर दिल में बसता है भगवान।

26 जनवरी को मिला भारत को गणतंत्र का वरदान, इसीलिए है गणतंत्र दिवस का यह दिन बहुत महान।

स्वर्ग सा हम देश बनाएंगे,
गणतंत्र हम हर वर्ष मनाएंगे।

गणतंत्र दिवस से जुड़े सवाल

26 जनवरी 2023 को कौन सा गणतंत्र दिवस है?

26 जनवरी 2023 को गुरुवार भारत का 74वाँ गणतंत्र दिवस है।

26 जनवरी 2023 को कौन सा दिन है?

26 जनवरी 2023 को गुरुवार का दिन है.

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है ?

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है क्योंकि इस दिन साल 1950 में भारत का स्वतंत्रता अधिनियम पारित हुआ था, जिससे भारत अपने अंग्रेजी शासकों से स्वतंत्र हो गया था.

गणतंत्र दिवस पर परेड कहा होती है ?

गणतंत्र दिवस पर परेड निर्धारित शहरों में राष्ट्रीय धूम के साथ मनाया जाता है, जैसे कि दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई आदि सब को राष्ट्रीय धूम के साथ स्वतंत्रता दिवस के उत्सव मनाये जाते हैं। हर साल राजपथ पर एक भव्य परेड इंडिया गेट से राष्ट्रपति भवन (राष्ट्रपति के निवास) तक राजधानी नई दिल्ली में आयोजित की जाती है।

गणतंत्र दिवस का महत्व क्या है ?

26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान सभा ने भारत शासन अधिनियम 1935 को खत्म कर दिया और भारत को गणतंत्र राष्ट्र घोषित कर दिया। इसी दिन भारत एक संप्रभु राष्ट्र बना और लोकतांत्रिक गणराज्य की उपाधि हासिल की। गणतंत्र दिवस के दिन ही सभी लोगों को बराबरी का अधिकार और नयायवादी सरकार मिली।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments